सुख-दुःख


चक्कर है,

लगा रहता है !

कोई चादर तान कर सो जाता है,

कोई बेचारा

सारी रात जगा रहता है !

जो चैन से सोता है

उसे भी कभी जगना है,

रोना है;

और जो जगता है

आँखों में लिए

माँ की गोद के सपने –

नींद आएगी ज़रूर ,

उसको भी कभी सोना है !

  1. No trackbacks yet.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: