तुम्हारी याद के साये में


तुम्हारी याद के साये में शब्दोँ के जाल बुन रहा हूँ,

तुम्हें ही बिखेर पन्नोँ पे, तुम्हें ही फिर चुन रहा हूँ |

तुम नहीं हो यहाँ पास मेरे, फिर भी यूँ हो करीब,

कि अपने दिल में मैं तुम्हारी धड़कन सुन रहा हूँ ||

  1. No trackbacks yet.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: